एक व्यक्ति ने 71 हजार की स्कूटी को 15.44 लाख रुपये में ख़रीदा, जानें क्या है वजह

चंडीगढ़ फैंसी नंबर ऑक्शन | vip number for scooty | Fancy Number Auction | chandigarh news | वीआईपी नंबर स्कूटी के लिए | फैंसी नंबर ऑक्शन हिंदी में जानें

Fancy Number Auction: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए एक बहुत ही ख़ास आर्टिकल लाये हैं। जैसा की आप लोगों को पता है की लोगों का क्रेज ख़त्म होने का नाम नहीं लेता। तो चलिए देखते हैं कि क्या है इस आर्टिकल में ख़ास। ऐसे ही तमाम जानकारी और अपडेट पाने के लिए हमारा यह पेज जरूर फॉलो करें और आर्टिकल पूरा पढ़ें। कहते हैं शौक का कोई मुल नहीं। यह बात साबित की है चंडीगढ़ के बृज मोहन ने। बृज मोहन ने अपनी नई स्कूटी के लिए वीआइपी नंबर खरीदा है। लेकिन उस नंबर की कीमत इतनी है कि इसमें तो एक एसयूवी कार आ जाए।

Fancy Number Auction Details
Fancy Number Auction Details

चंडीगढ़ को कारों का शहर कहा जाता है। कोई भी ऑटोमोबाइल कंपनी (Fancy Number Auction) नई कार लांच करती है तो वह कुछ दिनों में ही चंडीगढ़ की सड़कों पर दिखने लगती है। यहां शौक के लिए लोग मोटी रकम भी चुकाने को तैयार रहते हैं। नए वाहनों के साथ उनके लिए फैंसी नंबर खरीदने का क्रेज भी शहर के लोगों में रहता है। रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) ने सीएच 01-सीजे सीरीज के फैंसी नंबरों की ऑक्शन की।

यह भी जानें

इस ऑक्शन में सीएच 01-सीजे-0001 नंबर सबसे महंगा 15.44 लाख रुपये में बिका। यह वीआइपी नंबर किसी कार के लिए नहीं बल्कि 71 हजार रुपये की स्कूटी के लिए खरीदा गया है। इस नंबर के शहर के रहने वाले बृज मोहन ने खरीदा है। उनका कहना है कि उन्होंने यह नंबर शौक को पूरा करने के लिए खरीदा है। बृज मोहन की चाहत थी कि उनके पास चंडीगढ़ का वीआइपी नंबर हो।

चंडीगढ़ में नई सीरीज की बोली लगी थी। बृज मोहन (Fancy Number Auction) ने कहा कि जब मैंने पहली बार नंबर अप्लाई किया तो मुझे लगा एक वीआईपी नंबर होना चाहिए। मुझे शौक था कि मेरे पास चंडीगढ़ का 0001 नंबर हो। इसी साल जनवरी में सीएच 01-सीएच सीरीज का 0001 नंबर 24.4 लाख रुपये में नीलाम हुआ था। इसे चंडीगढ़ के अमन शर्मा ने खरीदा था। इस बार नीलामी में नई सीरीज के साथ साथ पुरानी सीरीज के बचे हुए नंबरों को भी रखा गया था।

शौक की कीमत नहीं होती (Fancy Number Auction)

आपको बता दें की बृज मोहन ने कहा कि शौक की कोई कीमत नहीं होती। उन्होंने कहा कि जब मैंने पहली बार नंबर के लिए आवेदन किया तो मुझे लगा कि कोई वीआईपी नंबर होना चाहिए। उन्हें चंडीगढ़ का 0001 नंबर रखने का शौक था। गाड़ियों में वीआईपी नंबर की मांग इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई है। लोग मनपसंद नंबर के लिए लाखों की बोली लगा रहे हैं। ये नंबर स्टैटस और रॉयलिटी का सिंबल बन चुका है। चंडीगढ़ में वीआईपी नंबर 0001 के लिए 15 लाख 44 हजार की बोली लगायी गई।

पास में नहीं है कार

कारोबारी ने कहा कि उन्होंने यह नंबर अपने और बच्चों के शौक को पूरा करने के लिए लिया है। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी उन्होंने बच्चों के कहने पर मोबाइल का वीआईपी नंबर लिया था। उन्होंने कहा कि वह एक कार लेने की भी योजना बना रहे हैं। जब वे कार लेते हैं, तो वे इस नंबर (Fancy Number Auction) को उसमें ट्रांसफर कर देंगे। बता दें कि चंडीगढ़ में नई सीरीज CH- 01 CJ 0001 की बोली लगी थी। चंडीगढ़ के बृज मोहन ने 15 लाख 44000 में एक्टिवा स्कूटी के लिए ये वीआईपी नंबर लिया। बृज मोहन ने कहा कि शौक का कोई मूल्य नहीं होता. उन्होंने कहा कि जब मैंने पहली बार नंबर अप्लाई किया तो मुझे लगा एक वीआईपी नंबर होना चाहिए। उन्हें शौक था का उनके पास चंडीगढ़ का 0001 नंबर हो।

बच्चों ने की जिद तो लगा दी बोली

बृज मोहन के बच्चे चाहते थे कि उनके पास एक वीआईपी (Fancy Number Auction) नंबर हो। बच्चों का शौक पूरा करने के लिए उन्होंने वीआईपी नंबर पर बोली लगाने की सोची। उन्होंने पहले से ही सोच रखा था कि 0001 नंबर लूंगा। बोली लगी तो उन्हें ये नंबर 15 लाख 44 हजार रुपये में मिला. बृज मोहन ने कहा कि वो काफी खुश है कि ये नंबर अब उनके पास है।

अपना और बच्चों का शौक पूरा करने के लिए उन्होंने ये नंबर लिया है। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी उन्होंने बच्चों के कहने मोबाइल का वीआईपी नंबर लिया था। बृज मोहन ने बताया कि (Fancy Number Auction) फिलहाल वो ये वीआईपी नंबर अपनी एक्टिवा स्कूटी पर लगाएंगे। उन्होंने कहा कि वो एक गाड़ी लेने का भी प्लान कर रहे हैं। जब वो गाड़ी लेंगे तो इस नंबर को उसमें ट्रांसफर कर देंगे।

इन नंबरों पर भी लगी बोली (Fancy Number Auction)

आपको हम यह भी बता दें की, इस सीरीज का दूसरा सबसे महंगा नंबर 0002 बिका इसे 5.46 लाख रुपये में खरीदा गया। इस सीरीज के साथ आरएलए ने पिछली सीरीज के बचे नंबरों को भी नीलाम किया। 14 से 16 अप्रैल तक पसंद के नंबर के लिए बिड सब्मिट कर सकते थे।

378 रजिस्ट्रेशन नंबर इस ऑक्शन में बेचे गए। इससे आरएलए ने कुल 1.50 करोड़ रुपये का रेवेन्यू जुटाया। इससे पहले पिछली सीरीज सीएच-01 सीएच सीरीज का 0001 नंबर (Fancy Number Auction) अभी तक इतिहास का दूसरा सबसे महंगा नंबर 24.4 लाख रुपये में नीलाम हुआ था। 15 लाख रुपये में कई नामी ऑटोमोबाइल कंपनियों की लग्जरी एसयूवी कार आ सकती है, लेकिन शोक के लिए चंडीगढ़ में फैंसी नंबर खरीदा जा रहा है।

पिछली सीरीज में आरएलए को मिला रेवेन्यू

सीरीजकमाई
सीएच 01 सीई1 करोड़ पांच लाख रुपये
सीएच 01 सीएफ1 करोड़ 10 लाख रुपये
सीएच 01 सीजी1 करोड़ 53 लाख रुपये
सीएच 01 सीएच2 करोड़ 29 लाख रुपये
सीएच 01 सीजे1 करोड़ 50 लाख रुपये

Kisan Credit Card Apply: जानिये सबकुछ और चरण दर चरण प्रक्रिया की जाँच करें

Leave a Comment