Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022: क्या हैं किसान दुर्घटना बीमा स्कीम, जानें सबकुछ

Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022: किसानों की दुर्घटनावश मृत्यु या दिव्यांगता की स्थिति में Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के तहत तहसील कार्यालय में दावा पेश करने की सीमा को शासन ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के मद्देनजर एक सितंबर से 75 दिन तक के लिए बढ़ा दिया है।

यह मौका उन किसानों या उनके वारिसों को दिया गया है जो दुर्घटना के कारण मृत्यु या दिव्यांगता का शिकार होने के कारण एक अप्रैल से एक सितंबर तक की अवधि में मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 के तहत बीमा का दावा पेश नहीं कर सके हैं। राजस्व विभाग ने इस बारे में शासनादेश जारी कर दिया है। ऐसे लोग अब 15 नवंबर तक दावा प्रस्तुत कर सकेंगे।

किसान या बटाईदार की दुर्घटना में मृत्यु या स्थायी दिव्यांगता होने पर Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के तहत पांच लाख रुपये बीमा राशि दी जाती है।

दुर्घटना में किसान की मृत्यु या दिव्यांगता होने पर योजना का लाभ पाने के लिए किसान या उसके वारिसों को मृत्यु/दिव्यांगताकी तारीख से 45 दिन के अंदर संबंधित तहसील कार्यालय में प्रमाणपत्रों सहित दावा पेश करना होता है।

क्या है Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022

राज्य के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने सोमवार को साल 2021-22 का बजट पेश किया है। बजट में Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के लिए 600 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। पिछले साल योगी सरकार ने राज्य के किसानों के लिए यह बड़ी सामाजिक सुरक्षा योजना शुरू की थी।

इस मुख्यामंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 के तहत अगर किसी किसान की खेती करने के दौरान मृत्यु हो जाती है सरकार उसके परिजनों को सरकार 5 लाख रुपये का मुआवजा देगी। 60 फीसदी से अधिक दिव्यांगता होने पर किसान को अधिकतम दो लाख रुपये मिलेंगे।

व्यापारियोंं के लिए 10 लाख का बीमा 

इसी तरह यूपी सरकार जीएसटी में रजिस्टर्ड व्यापारियों के लिए पांच लाख रुपये का मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 का बीमा देती थी। से इस साल के बजट में बढ़ाकर 10 लाख रुपये कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 के तहत व्यापारी के साथ कोई हादसा होने पर पीड़ित परिवारों को 10 लाख रुपये का लाभ मिलेगा। इसके तहत फर्म पार्टनर को भी बीमा का लाभ मिलता है।

कब मिली Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 को मंजूरी

किसानों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 को मंजूरी 21 जनवरी 2020 को मिली थी। योजना के तहत किसान की मृत्यु पर पांच लाख रुपये व 60 फीसद से अधिक दिव्यांगता की स्थिति दो लाख रुपये की सहायता देने की व्यवस्था है।

Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 का लाभ 14 सितंबर 2019 के बाद किसी दुर्घटना के शिकार हुए लोगों को मिलना है। पात्र किसान के दुर्घटना का शिकार होने की स्थिति में 45 दिनों के अंदर अपने जिले के तहसील कार्यालय में आवेदन करना है।

निर्धारित अवधि से एक माह का विलंब होने की स्थिति में डीएम क्षमा करके पीड़ित का आवेदन स्वीकार कर सकते हैं।

इन दुर्घटनाओं में मिलती है सहायता

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 इन दुर्घटनाओं मे करती है सहायता:

  • मकान के नीचे दबने की घटना 
  • प्राकृतिक आपदा की वजह से दुर्घटना
  • चेम्बर में गिरने के कारण घटित हादसा
  • आग में जलने से, बाढ़ में बह जाने से
  • बिजली गिरने से, करंट लगने से
  • हत्या, आतंकवादी हमला, डकेती, मारपीट में दुर्घटना
  • यात्रा के दौरान होने वाली घटना 

क्या है योजना की खासियत

इस मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 के दायरे में प्रदेश के करीब 2 करोड़ 38 लाख 22 हजार किसान आते हैं। इस Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 की एक और खास बात यह है कि बटाईदारों को भी इस स्कीम लाभ मिलता है।

इससे पहले यूपी में राजस्व विभाग की तरफ से इसी तरह की योजना चलाई जा रही थी लेकिन उसमें बटाईदारों को इसका लाभ नहीं मिलता था। इस मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 में 18 से 70 साल के किसान शामिल हो सकते हैं।

ये होता है Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के तहत मुआवजा

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 मे मिलने वाला मुआवजा ये है:

  • दोनों हाथ दोनों पैर ना होने पर मिलने वाला मुआवजा-5 लाख
  • एक हाथ तथा एक पैर की क्षति होने पर मुआवजा- 5 लाख
  • एक पैर एक हाथ की विकलांग होने पर- 2 से 3 लाख का मुआवजा 
  • किसान की मृत्यु हो जाने पर मुआवजा- 5 लाख 
  • ऐसी विकलांगता जो 25% से अधिक है लेकिन 50% से कम- 1 से 2 लाख के बीच 
  • दुर्घटना में आँखे चले जाने पर मुआवजा- 5 लाख 

Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के लिए जरुरी दस्तावेज

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2022 के तहत कुछ जरुरी दस्तावेज:

  • निवास प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • बैंक खाते की फोटो कॉपी
  • आयु प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • दो पासपोर्ट साइज फोटो
  • खाता नंबर
  • आधार नंबर

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना की पात्रता

  • इस योजना का लाभ उन किसानों को मिलेगा जो उत्तर प्रदेश के स्थायी निवासी होंगे।
  • इस योजना के तहत वे किसान पात्र माने जाएंगे जिनकी आयु 18 से 70 वर्ष के बीच होगी।
  • राज्य के खतौनी में दर्ज खतौनी, जो दुर्घटना के कारण मृत्यु या अपंगता का शिकार हो जाता है, उनके माता-पिता, पति-पत्नी, पुत्र पुत्री, पुत्र वधू, पौत्र, जिनकी आजीविका का मुख्य साधन उनके द्वारा दर्ज कृषि भूमि से है खाताधारक/सह-खेदार। वह इस योजना के तहत पात्र होंगे।
  • इसके अलावा ऐसे किसान जिनके पास अपनी जमीन नहीं है और वे हिस्से या पट्टे पर खेती करते हैं।
  • उन्हें और उनके आश्रितों को भी Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 का लाभ दिया जाएगा।

Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको यहां दिए गए फॉर्म को डाउनलोड करना होगा। इसके बाद इस फॉर्म में पूछी गई सभी जरूरी जानकारियां जैसे नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि, पता, जिला, दुर्घटना का कारण आदि दर्ज करना होगा।

अब आपको इस फॉर्म के साथ सभी जरूरी दस्तावेज अटैच करने होंगे। इसके बाद आपको यह फॉर्म संबंधित तहसील में जमा करना होगा।

दुर्घटना के डेढ़ महीने की अवधि के भीतर आवेदन पत्र भरना अनिवार्य है। अपरिहार्य परिस्थितियों में जिलाधिकारी द्वारा आवेदन जमा करने की अवधि एक माह तक बढ़ाई जा सकती है।

आवेदन की अवधि किसी भी दशा में ढाई माह से अधिक नहीं बढ़ाई जा सकती।

इस तरह आप Mukhyamantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana 2022 के तहत आवेदन कर सकेंगे।

Leave a Comment