Mukhyamantri Udyami Scheme: बेरोजगार युवाओं को व्यापार के लिए मिल रहा है 10 लाख का लोन, जानें आवेदन प्रक्रिया

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना | ऑनलाइन आवेदन | योजना आवेदन प्रक्रिया | Mukhyamantri Udyami Scheme | मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम अप्लाई | उद्यमी योजना | उद्यमी स्कीम |

Mukhyamantri Udyami Scheme: लोगों को आर्थिक रूप (Financial Help) से मजबूत बनाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार (Government Schemes) कई तरह की स्कीम्स चलाती हैं। इन स्कीम की मदद से युवाओं को रोजगार के अवसर मिलते हैं। ऐसी ही एक स्कीम है जिसका नाम है मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (Mukhyamantri Udyami Yojana), इस मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (स्कीम) को बेरोजगार युवाओं की मदद के लिए शुरू किया गया है। इस उद्यमी स्कीम को बिहार सरकार ने शुरू किया है। राज्य की नीतीश सरकार राज्य से बेरोजगारी दूर करने के लिए यह कदम उठाया है। इस मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) के तरत जो युवा अपने घर में गृह उद्योग (MSME) खोलना चाहते हैं या कोई भी स्वरोजगार खोलने के इच्छुक है वह इस स्कीम का लाभ उठा सकते हैं।

Mukhyamantri Udyami Scheme
Mukhyamantri Udyami Scheme

इस मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तरह राज्य के बेरोजगार युवाओं को रोजगार के नए अवसर देने के लिए सरकार द्वारा 10 लाख रुपये के लोन का प्रावधान किया गया है। अगर आप भी इस मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का लाभ उठाकर कुछ का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इस स्कीम की कुछ खास बातें जानें।

Mukhyamantri Udyami Yojana के बारे में

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) के जरिए बिहार की नीतीश सरकार राज्य के बेरोजगार युवाओं को 10 लाख रुपये का लोन देती है। इस लोन की मदद से युवा खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

यह मुख्यमंत्री उद्यमी योजना बिजनेस गृह उद्योग या लघु उद्योग (MSME) शुरू कर सकते हैं। इससे वह खुद के लिए और अपने आसपास के लोगों के लिए रोजगार के नये अवसर तलाश सकते हैं।

इस योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) को शुरू करने के पीछे सरकार का यह मकसद है कि राज्य से युवाओं का नौकरी की तलाश में पलायन रुके और वह अपने घर पर ही रहकर पैसे कमा सकें।

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के फायदे

इस योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) के तहत सरकार युवाओं को 10 लाख रुपये तक का लोन देती है। इस मुख्यमंत्री उद्यमी योजना लोन का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि दिए गए लोन का आधा पैसा सरकार माफ कर देती है और बाकि बचे पैसों का लोन भुगतान आपको 84 किस्तों में करना होता है। इससे (Mukhyamantri Udyami Scheme) बिना किसी बड़े आर्थिक बोझ के आप पैसे वापस चुका सकते हैं।

जिलास्तर पर जारी है ट्रेनिंग

जानकारी के मुताबिक, बीते साल 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) के तहत मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति जनजाति उद्यमी योजना तथा मुख्यमंत्री अति पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना के तहत चार-चार हजार लोगों का चयन किया गया था। इनकी ट्रेनिंग जिलास्तर पर जारी है।

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के लाभ

इस Mukhyamantri Udyami Scheme के लाभ कुछ इस प्रकार हैं:

  • मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम के पीछे प्रमुख उद्देश्य अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लोगों को उनके स्वरोजगार के लिए ऋण प्रदान करके उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाना है।
  • सरकार इच्छुक उद्यमियों को 50% ब्याज मुक्त ऋण और 50% अनुदान प्रदान करेगी।
  • आवेदन करने वाले उम्मीदवार अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए इस योजना के तहत 10 लाख रुपये तक के ऋण का लाभ उठा सकते हैं।
  • लाभार्थी 84 समान किश्तों में ऋण चुका सकते हैं।

जल्द भेजी जाएगी Mukhyamantri Udyami Scheme लोन की राशि

इस Mukhyamantri Udyami Scheme (मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम) ट्रेनिंग के बाद जिला उद्योग केंद्र के माध्यम से चयनित अभ्यर्थी का प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार होगी और स्थल निरीक्षण के बाद रिपोर्ट मुख्यालय आएगी। मुख्यालय स्तर पर इन्हें ऋण की पहली किस्त उनके बैंक खाते में अंतरित कर दी जाएगी। जिस रफ्तार में मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम या योजना ट्रेनिंग के बाद प्रोजेक्ट रिपोर्ट मुख्यालय आएगी उसी रफ्तार से ऋण की राशि लाभार्थी के बैंक खाते में भेजी जाएगी।

इस तरह तैयार होगी प्रोजेक्ट रिपोर्ट

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम) के तहत चयनित लाभार्थियों की ट्रेनिंग उनके जिले में ही हो रही। बैंक व जिला उद्योग कार्यालय से जुड़े अधिकारी उन्हें, खाता-बही, जीएसटी खाता संचालन, श्रम कानून, क्रेडिट-डेबिट, बुक कीपिंग व बैंक से जुड़े मामले की ट्रेनिंग दे रहे। वहीं प्रोजेक्ट रिपोर्ट के संबंध में यह व्यवस्था है कि जिला उद्योग कार्यालय के अधिकारी संबंधित अभ्यर्थियों द्वारा चयन किए गए उद्योग के बारे में उन्हें जानकारी देंगे।

Mukhyamantri Udyami Scheme पात्रता मानदंड

अब हम आपको इस आर्टिकल में बताएँगे कि मुख्यमंत्री उद्यमी योजना या मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम (Mukhyamantri Udyami Scheme) के लिए कौन होंगे पात्र। जानने के लिए पूरा पढ़ें यह आर्टिकल।

  • आवेदक बिहार राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदकों की आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • आवेदकों को राज्य के कमजोर समूहों से संबंधित होना चाहिए।
  • उम्मीदवारों को अपनी इंटरमीडिएट, आईटीआई या अन्य प्रासंगिक शिक्षा पूरी करनी चाहिए।
  • आवेदन राज्य में ओबीसी / बीसीई / एससी / एसटी श्रेणियों से संबंधित होने चाहिए।
  • इच्छुक उम्मीदवारों को इंस्टिट्यूट प्रोपराइटरशिप, पार्टनरशिप, लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के तहत पंजीकरण कराना चाहिए।

वित्तीय वर्ष में ही ऋण उपलब्ध कराना शुरू कर देंगे

उद्योग विभाग की ओर से बताया गया कि योजना (Mukhyamantri Udyami Scheme) के तहत वर्तमान वित्तीय वर्ष में ही ऋण उपलब्ध कराना शुरू हो जाएगा। जिनकी ट्रेनिंग मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम से पहले शुरू हुई है उनकी प्रोजेक्ट रिपोर्ट अब मिलनी शुरू होगी। मार्च के पहले 15 दिन तक इस मुख्यमंत्री उद्यमी स्कीम लाभार्थियों को सिलसिलेवार ढंग से ऋण उपलब्ध कराना शुरू हो जाएगा।

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना ऑनलाइन आवेदन

यदि आप इस Mukhyamantri Udyami Scheme के तहत ऑनलाइन आवेदन करने का सोच रहे हैं तो हमने आपको नीचे इसकी पूरी प्रक्रिया समझा राखी है, उसको फॉलो करें:

  • मुख्यमंत्री उद्यमी योजना (Mukhyamantri Udyami Yojana) के ऑनलाइन आवेदन पहले ही बंद कर दिए गए हैं।
  • आवेदक अब आधिकारिक पोर्टल पर अपने आवेदनों की स्थिति की ऑनलाइन जांच कर सकते हैं।
  • पंजीकृत आवेदक आधिकारिक पोर्टल पर जा सकते हैं और अपने लॉगिन क्रेडेंशियल के साथ पोर्टल में लॉग इन कर सकते हैं।
  • इसके लिए उम्मीदवार होम पेज पर लॉग इन बटन पर क्लिक करें।
  • फिर यह ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं को नीचे दिए गए पृष्ठ पर पुनर्निर्देशित करता है।
  • अब आधार नंबर और पासवर्ड डालें।
  • लॉग इन बटन पर क्लिक करें।
  • इसके बाद यह ऑनलाइन यूजर्स को यूजर डैशबोर्ड पर ले जाता है।
  • अब आवेदक अपने Mukhyamantri Udyami Scheme आवेदन की स्थिति ऑनलाइन जांच सकते हैं।

Leave a Comment