PM Fasal Bima Yojana: आपदा या बारिश से खराब हो गई है आपकी फसल, तो इस योजना के अंतर्गत मिलेगा मुआवजा

PM Fasal Bima Yojana: भारतीय अर्थव्यवस्था का एक बहुत बड़ा हिस्सा कृषि (PM Fasal Bima Yojana) पर आधारित है। देश की एक बहुत बड़ी आबादी खेती किसानी (PM Fasal Bima Yojana) करके अपना जीवन यापन करती है। देश के अन्नदाता कहे जाने वाले किसानों (PM Fasal Bima Yojana) को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। कई सरकारी और दूसरे आर्थिक सर्वे की मानें, तो देश में किसानों (PM Fasal Bima Yojana) की स्थिति ठीक नहीं है।

भारत सरकार ने आजादी के बाद किसानों (PM Fasal Bima Yojana) की आय में बढ़ोतरी करने के उद्देश्य से कई योजनाएं (PM Fasal Bima Yojana) चलाईं, पर निष्कर्ष कुछ खास नहीं निकला है। भारत में ऐसे किसानों (PM Fasal Bima Yojana) की संख्या काफी अधिक है, जो कर्ज के सहारे खेती करते हैं। कृषि (PM Fasal Bima Yojana) करते समय इन किसानों को कई तरह के जोखिमों का सामना करना पड़ता है।

उनकी फसल (PM Fasal Bima Yojana) की गुणवत्ता कैसी होगी ये बात मौसम चक्र और वर्षा पर निर्भर करती है। भारत में हर साल किसानों (PM Fasal Bima Yojana) को मौसम की मार झेलनी पड़ती है। इस कारण (PM Fasal Bima Yojana) उन पर कर्ज का बोझ काफी ज्यादा हो जाता है। इससे उनकी आर्थिक स्थिति काफी खराब हो जाती है।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने की शुरुआत

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैतूल में ऑनलाइन (PM Fasal Bima Yojana) वितरण शुरू करने के बाद कहा कि यह प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) के तहत बड़ा प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण है। उन्होंने कहा, ‘‘यह एक ऐतहासिक दिन है. 7618 करोड़ रुपये देश में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) के तहत वितरित की गई सबसे बड़ी राशि है।’’

किताना देना होगा प्रीमियम?

आपको बता दें कि कृषि अधिकारियों के मुताबिक ज्यादातर फसलों (PM Fasal Bima Yojana) में किसानों को  फसल बीमा (PM Fasal Bima Yojana) कराते वक्त कुल प्रीमियम का 1 से 2 प्रतिशत तक का ही भुगतान करना होता है। वहीं कुछ ऐसी फसले भी होती हैं जिसमें किसानों को 5 प्रतिशत तक प्रीमियम का भुगतान करना पड़ सकता है।

कब करवाएं इस योजना में बीमा?

जब आप खेत में अपनी फसल (PM Fasal Bima Yojana) को बोते हैं तो उसके 10 दिनों के अंदर आप इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) में अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) में फसल तैयार करने से लेकर काटने तक के 14 दिनों के बीच अगर आपकी फसल प्राकृतिक आपदा के कारण नष्ट हो जाती है तो आप इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) का लाभ ले सकते हैं।

PMFBY का कैसे उठाएं फायदा?

खेत में फसल (PM Fasal Bima Yojana) की बुआई के 10 दिनों के अंदर आपको PMFBY (PM Fasal Bima Yojana) का फॉर्म भरना जरूरी है। फसल (PM Fasal Bima Yojana) काटने से लेकर तैयार करने के 14 दिनों के बीच अगर आपकी फसल को प्राकृतिक आपदा के कारण नुकसान होता है, तब भी आप पीएम फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) का लाभ उठा सकते हैं।

ड्रोन से खेती पर भी हुई बात

इस (PM Fasal Bima Yojana) अवसर पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने उन्नत प्रौद्योगिकी के महत्व पर जोर दिया और कहा कि ड्रोन का उपयोग खेती (PM Fasal Bima Yojana) के लिए किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार पहले ही इस (PM Fasal Bima Yojana) संबंध में एक नीति पेश कर चुकी है।

नुकसान में क्या कदम उठाएं?

यदि आपने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) के तहत अपनी फसल का बीमा कराया है और आप फसल (PM Fasal Bima Yojana) को नुकसान होने पर इसके मुआवजे का दावा करना चाहते हैं, तो भारत सरकार ने उसके (PM Fasal Bima Yojana) लिए कई हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं।

इसके साथ ही PMFBY (PM Fasal Bima Yojana) के तहत फसल को हुए नुकसान की जानकारी देने के लिए ईमेल आईडी भी जारी किया गया है। फसल (PM Fasal Bima Yojana) खराब होने की स्थिति में आप फसल बीमा (PM Fasal Bima Yojana) ऐप से भी इसकी जानकारी दे सकते हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) के तहत किसान को फसल के नुकसान की जानकारी बीमा कंपनी को देनी होती है।

पीएम फसल बीमा योजना का लाभ

इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) का उद्देश्य किसानों को समय पर योजना (PM Fasal Bima Yojana) का लाभ पहुंचाना है। मंत्रालय के मुताबिक 21 अक्टूबर 2021 के आंकड़ों के मुताबिक, खरीफ सीजन 2018 में कर्ज लेने वाले किसानों से 2.04 करोड़ आवेदन और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) के तहत कर्ज नहीं लेने वाले किसानों के 1.15 करोड़ आवेदन प्राप्त हुए है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) की शुरुआत 2016-17 में पुरानी फसल बीमा (PM Fasal Bima Yojana) योजनाओं में सुधार के साथ की गई थी। इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) के संचालन दिशा-निर्देशों में रबी सीजन 2018 और खरीफ सीजन 2020 में संशोधन किया गया था।

ये हैं जरूरी दस्तावेज

इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) के लिए आपको इन दस्तावेजों की जरुरत होगी:

  • किसान की फोटो
  • आईडी कार्ड  (आधार कार्ड (Aadhaar Card), पैन कार्ड (PAN Card), वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card), ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence)
  • पते का प्रमाण पत्र
  • खेत का खसरा नंबर
  • सरपंच या पटवारी से खेत में बुआई के लिए एक पत्र

किन किन फसलों पर मिलेगा योजना का लाभ

इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) का लाभ निम्न फसलों पर मिलेगा:

  • धान
  • मक्का
  • बाजरा
  • कपास
  • गेहूं
  • जौ
  • चना
  • सरसों
  • सूरजमुखी

ऑनलाइन प्रोसेस

इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) के ऑनलाइन आवेदन के लिए:

  • प्रधानमंत्री फसल बीमा (PM Fasal Bima Yojana) में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको भारत सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट https://pmfby.gov.in/ पर विजिट करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद आपको Apply as a farmer के विकल्प का चयन करना है।
  • इसके (PM Fasal Bima Yojana) बाद आपकी स्क्रीन पर एक फॉर्म ओपन होगा। 
  • यहां आपको अपनी जरूरी डिटेल्स को ध्यानपूर्वक भरना है।
  • फॉर्म (PM Fasal Bima Yojana) फिल करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • फॉर्म सबमिट होने के बाद आपको एक एप्लीकेशन कोड मिलेगा।
  • इस (PM Fasal Bima Yojana) कोड को आपको क्लेम सेटलमेंट प्रोसेस के लिए संभाल कर रखना होगा।

ऑफलाइन प्रोसेस

इस योजना (PM Fasal Bima Yojana) के ऑफलाइन आवेदन के लिए:

  • अगर आप प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM Fasal Bima Yojana) में ऑफलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको पहले भारत सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट https://pmfby.gov.in/ पर विजिट करना होगा।
  • वेबसाइट पर विजिट करने के बाद आपको (PM Fasal Bima Yojana) एक एप्लीकेशन फॉर्म पीडीएफ फॉर्मेट में डाउनलोड करना है।
  • डाउनलोड किए फॉर्म को ध्यानपूर्वक भरना है और जरूरी दस्तावेजों की फोटोकॉपी को उसके साथ अटैच करके संबंधित विभाग में सबमिट करना होगा।
  • वेरिफिकेशन के बाद आपके फॉर्म (PM Fasal Bima Yojana) को संबंधित विभाग में स्वीकार कर लिया जाएगा।

Leave a Comment