Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022: सिंचाई योजना से खेतों को मिलेगा भरपूर पानी, फसल होगी उम्मीद से ज्यादा

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2022 के तहत खेतों में तालाब बनाने की योजना किसानों को भा रही है। शायद यही वजह है कि भूमि संरक्षण विभाग में लक्ष्य से अधिक आवेदन आ गए हैं। मानक पर खरे उतरे नौ खेतों में विभाग तालाब बनवा चुका है, जो बारिश की बूंदों से लबालब हैं। बाकी सात तालाबों के लिए खेतों का चयन किया जा रहा है। बीते साल विभाग ने 17 तालाब तैयार कराए थे।

जब खेत में फसल लहलहाती है तो Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 उसके पीछे किसान के खून पसीने की मेहनत छुपी होती है।

किसान खेत की जुताई करता है, बीज डालता है, जरूरत के अनुसार सिंचाई करता है तब जाकर खेत हरा भरा दिखाई देता है।

सिंचाई उन्नत फसल उगाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कई ऐसी फसलें है जिन्हें पानी ज्यादा चाहिए होता है और कुछ कम पानी में भी अच्छी पैदावार देती हैं।

आज भी भारत में किसानों के लिए सिंचाई एक ऐसा विषय है जिसपर काम किया जाना बाकी है क्योंकि कहीं खूब पानी है तो कहीं पानी की किल्लत है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना क्या है 

किसानों को खेती के लिए पानी की कोई कमी न हो इसके लिए सरकार ने Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 में पचास हजार करोड़ रुपये की धनराशि मान्य की है।

स्प्रिंकलर की मदद से सिंचाई करने के लिए सरकार 80 से 90 प्रतिशत अनुदान देगी। इस विधि से खेत को बिना समतल किए ही सिंचाई की जा सकती है। ढलानों या कम ऊंचाई पर ये विधि बहुत प्रभावी हो रही है।

खेतों में 16 तालाब तैयार कराने का मिला लक्ष्‍य

इस वित्तीय वर्ष में भूमि संरक्षण विभाग को Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 के तहत खेतों में 16 तालाब तैयार कराने का लक्ष्य मिला है। विभाग ने इगलास, अतरौली, गभाना, चंडौस में तालाबों के लिए खेतों का चयन करना शुरू कर दिया। पांच तालाब तो शुरुआत में ही तैयार करा दिए गए थे।

चार तालाबों के लिए चिह्नित किए गए खेतों में खोदाई कराई गई। ये तालाब भी अब तैयार हाे चुके हैं और पानी से लबालब हैं। भूमि संरक्षण विभाग के अवर अभियंता ललित कुमार के मुताबिक प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2022 के तहत सामान्य वर्ग से 32 किसानों ने आवेदन किया था। पांच आवेदन अनुसूचित वर्ग से मिले।

तालाबों का चयन मानकों के अनुसार किया गया। खेतों में जलजमाव वाले निचले हिस्से में तालाब तैयार कराए गए, जिससे पानी ठहरा रहे और अत्याधिक बारिश में फसलों को नुकसान न पहुंचे। ऐसे नौ खेतों में तालाब बनवाए गए।

सरकार तालाब बनवाने के लिए दे रही 50 फीसद अनुदान

भूमि संरक्षण अधिकारी निधि राठौर बताती हैं किप्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2022 के पंजीकृत किसानों को सरकार तालाब बनवाने के लिए 50 फीसद अनुदान दे रही है। मानक के अनुसार एक तालाब की लंबाई 22 मीटर, चौड़ाई 20 मीटर और गहराई तीन मीटर होनी चाहिए। एक लाख पांच हजार रुपये तालाब के निर्माण का बजट है।

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 मे 50 फीसद यानी, 52,500 रुपये अनुदान के रूप में तीन किस्तों में किसानों को मिलता है। तालाब से किसानों को काफी लाभ है। यह जल संचय का प्रमुख स्रोत है। भूमि में नमी बनी रहती है।

इससे फसलों को सिंचाई की अधिक आवश्यकता नहीं होगी। उत्पादन बेहतर होगा। किसान खेती के साथ तालाब में मछली पालन और सिंघाड़ा उत्पादन कर अतिरिक्त आय कर सकते हैं। पिछले साल जिन किसानों ने तालाब तैयार कराए थे, वे किसान ये काम कर रहे हैं।

क्या है प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए पात्रता

प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2022 के लिए पात्रता इस प्रकार है:

  • किसान के पास खेती के लायक जमीन होनी चाहिए।
  • सभी किसानों को इसका लाभ मिलेगा।
  • इस Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 का लाभ कृषि से संबंधित सभी मान्यता प्राप्त संस्थाओं को भी मिलेगा।
  • जैसे: स्वयं सहायता समूह, ट्रस्ट, सहकारी समिति, आदि
  • इस प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2022 का लाभ कॉन्ट्रेक्ट फॉर्मिंग यानी लीज पर लेकर खेती करने वाले भी ले सकते हैं।
  • शर्त यह है कि कम से कम 7 वर्ष से खेती कर रहे हों।

प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 के लिए नीचे इम्पोर्टेन्ट डॉक्युमनेट्स दिए गए हैं:

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र के लिए कोई प्रमाण पत्र
  • जमीन के कागजात
  • जमीन की जमाबंदी
  • बैंक खाता डिटेल
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

अब क्या लिया सरकार ने फैसला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana 2022 को आगे बढ़ाने को मंजूरी मिल गई है। अब इस योजना को साल 2025-26 तक आगे बढ़ा दिया गया है।

Leave a Comment