Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana: हर महीने मिलेगी 9,250 रुपए की पेंशन, जानिए कैसे करें निवेश

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना | वय वंदना | Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana | PMVVY Scheme Online Apply | वय वंदना योजना आवेदन फॉर्म

Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana: रिटायरमेंट के बाद जीवन आराम से कटे, इसके लिए हर कोई अपने-अपने तरीके से जतन करता है। रिटायरमेंट के बाद किसी तरह की कोई आर्थिक परेशानी ना हो, इसके लिए पेंशन प्लान या रिटायरमेंट प्लानिंग की सलाह दी जाती है। कायदा तो यही है कि जब आप अपने प्रोफेशनल जीवन की शुरूआत करें तभी से रिटायरमेंट की प्लानिंग भी शुरू कर देनी चाहिए। अगर काम-धंधा या नौकरी करते हुए आपने रिटायरमेंट प्लान तैयार नहीं किया तो बुढ़ापे में भी नौकरी-चाकरी करनी पड़ेगी। आज बाजार में तमाम सरकारी और प्राइवेट स्कीम्स हैं जो अच्छा रिटायरमेंट प्लान मुहैया करा रही हैं। अगर आप सुरक्षित जगह पर पैसा लगाना चाहते हैं तो प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) आपके लिए एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकती है। पीएम वय वंदन योजना में आपका पैसा सुरक्षित रहेगा और निवेश कर आपको हर महीने एक तय पेंशन मिलेगी।

Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana
Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana

अगर आप एकमुश्त निवेश कर हर महीने पेंशन (Pension) पाना चाहते हैं तो आपके लिए ‘प्रधानमंत्री वय वंदना योजना’ (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) एक सरकारी पेंशन स्कीम स्कीम है। यह स्कीम भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी- LIC) द्वारा चलायी जा रही है। 4 मई, 2017 को भारत भारत सरकार ने देश के वरिष्ठ नागरिकों को ध्यान में रखते हुए ‘प्रधानमंत्री वय वंदना योजना’ (PM Vaya Vandana Yojana) लॉन्च की थी।

तमाम फिक्स्ड डिपॉजिट और पेंशन योजनाओं के मुकाबले ‘प्रधानमंत्री वय वंदना योजना’ में अच्छा ब्याज मिल रहा है। इस समय पीएमपीपीवाई स्कीम में 7.40 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज दिया जा रहा है। इस योजना में आप एकमुश्त पैसा जमा करके हर महीने एक निश्चित पेंशन प्राप्त कर सकते हैं।

सीनियर सिटीजन के लिये Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री वय वंदना योजना  एक Social Security Scheme वाला पेंशन प्लान है जो भारत सरकार की LIC द्वारा चलायी जा रही है। पहले इस योजना के तहत निवेश करने की अधिकतम सीमा पहले 7.50 लाख रुपये थी जिसे अब बढ़ा कर 15 लाख रुपये कर दिया गया है।

एकमुश्त पैसा जमा करना होगा

बुजुर्गों को पेंशन के लिए वय वंदना योजना में एकमुश्त निवेश करना होगा। हर साल 1 अप्रैल को सरकार समीक्षा कर योजना के ब्याज में बदलाव करती है। इस योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) के तहत निवेश करने की अधिकतम सीमा पहले साढ़े सात लाख थी जिसे अब बढ़ा कर 15 लाख रुपये कर दिया गया है।

नए संशोधनों के बाद 1000 रुपये मासिक पेंशन के लिए ग्राहक को न्यूनतम 1.62 लाख रुपये निवेश करने होंगे। तिमाही पेंशन के लिए 1.61 लाख, छमाही के लिए 1.59 लाख रुपये और सालाना पेंशन के लिए कम से कम 1.56 लाख रुपये निवेश करने होंगे।

एससीएसएस

SCSS 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों के लिए खुला है और (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) सरकार को सुरक्षा प्रदान करता है। डाकघर में SCSS के तहत खाता खोला जा सकता है। वरिष्ठ नागरिक इस योजना के तहत एकमुश्त राशि का निवेश कर सकते हैं और नियमित आय प्राप्त कर सकते हैं। यह तिमाही आधार पर रिटर्न की गारंटी देता है। भारत में प्रमाणित बैंकों और डाकघरों के माध्यम से कोई भी एससीएसएस का लाभ उठा सकता है।

Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana ब्याज दर

आपको बता दें कि PMVVY में पहले वित्तीय वर्ष के लिए, यह योजना मासिक देय 7.4 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से ब्याज आय दर का आश्वासन देती है। दूसरी ओर, एससीएसएस मौजूदा जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए 7.4 फीसदी सालाना की दर से पेशकश कर रहा है। SCSS ब्याज दर सरकार द्वारा तिमाही आधार पर संशोधित की जाती है।

हर महीने मिलेगी 9250 रुपये की पेंशन

पीएम वय वंदना योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) के तहत अधिकतम मासिक पेंशन की राशि 9250 रुपये है। आप इसे छमाही के रूप में 27,750 रुपये की पेंशन ले सकते हैं और अगर सालाना पेंशन चाहिए तो आपको 1.11 लाख रुपये मिलेंगे। लेकिन इसके आपको पीएमवीवीएस योजना में 15 लाख रुपये जमा करने होंगे। इस स्कीम की मैच्योरिटी 10 साल की है।

पति-पत्नी मिल कर करें निवेश

अगर आप इस योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) में 15 लाख रुपए निवेश करते हैं, तो आपको हर महीने 9250 हजार रुपए पेंशन मिलती है। अगर पति-पत्नी मिलकर योजना में निवेश कर रहे हैं और निवेश की राशि 30 लाख रुपए है, तो प्रतिमाह 18,500 हजार रुपए हर महीने पेंशन के तौर पर मिलेंगे।

Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana कार्यकाल

PMVVY के लिए, 31 मार्च 2022 तक खरीदी गई सभी पॉलिसियों के लिए 10 साल की पूरी पॉलिसी अवधि के लिए पेंशन की सुनिश्चित दर देय होगी। 3 पॉलिसी वर्षों के पूरा होने के बाद भी ऋण सुविधा उपलब्ध है। अधिकतम ऋण जो क्रय मूल्य के 75 प्रतिशत तक दिया जा सकता है। जबकि SCSS के लिए, निवेश की अवधि 5 वर्ष है, इसे 3 और वर्षों के लिए बढ़ाने का विकल्प है।

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना का लाभ

  • पेंशन भुगतान – 10 वर्षों की अवधि के दौरान, पेंशन राशि पॉलिसीधारक द्वारा चुने गए तरीके के अनुसार देय होगी।
  • परिपक्वता लाभ – प्रधान मंत्री वय वंदना योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) की परिपक्वता पर, अंतिम पेंशन किस्त के साथ खरीद मूल्य देय होगा।
  • मृत्यु का लाभ – 10 वर्ष की पॉलिसी (Life Insurance Corporation) अवधि के दौरान पेंशनभोगी की आकस्मिक मृत्यु होने पर, नामांकित व्यक्ति को खरीद मूल्य का भुगतान किया जाएगा।

वय वंदना योजना फ्री लुक पीरियड

यदि कोई पॉलिसीधारक प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) के नियम व शर्तें संतुष्ट नहीं है तो वह पॉलिसी लेने की 15 दिन के अंदर पॉलिसी वापस कर सकता है। यदि पॉलिसी ऑफलाइन खरीदी गई है तो 15 दिन के अंदर वापस की जा सकती है और यदि पॉलिसी ऑनलाइन खरीदी गई है तो 30 दिन के अंदर वापस की जा सकती है।

कैसे करें आवेदन

आप इस योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) के लिए दो तरीके से आवेदन कर सकते हैं। आप प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनो तरीके से आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन आप LIC की वेबसाइट पर जाकर कर सकते हैं तथा ऑफलाइन आवेदन LIC की ब्रांच पर जाकर कर सकते हैं।

नॉमिनी के खाते में जाएगा पूरा पैसा

यह 10 साल की समयावधि वाली योजना है, जिसमें अगर 10 साल के भीतर पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है, तो मूल राशि नॉमिनी के खाते में चली जाती है। अगर आप इस योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप 022-67819281 या 022-67819290  पर संपर्क कर सकते हैं। इसके लिए एलआईसी ने एक टोल फ्री नंबर 1800-227-717  भी जारी किया है।

पॉलिसी कर सकते हैं वापस

यदि कोई पॉलिसी धारक प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana) के नियम से संतुष्ट नहीं है तो वह पॉलिसी लेने की 15 दिन के अंदर उसे वापस कर सकता है। यदि पॉलिसी ऑफलाइन खरीदी गई है तो 15 दिन के अंदर और यदि ऑनलाइन खरीदी गई है तो 30 दिन के अंदर वापस की जा सकती है। पॉलिसी वापस करते समय पॉलिसी वापस करने का कारण बताना होगा। यदि पॉलिसी धारक पॉलिसी वापस करता है तो उसे स्टैंप ड्यूटी तथा जमा की गई पेंशन की राशि काटकर खरीद मूल्य का रिफंड किया जाएगा।

Leave a Comment