Rastriya Parivarik Labh Scheme: इस योजना के तहत आपको मिलेगी 30,000 रुपये की मदद, जानिए डिटेल्स

Rastriya Parivarik Labh Scheme: सरकार देश में गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए तरह-तरह की स्कीम्स लेकर आते रहती है। इन स्कीम्स की मदद से लोगों को सहायता राशि दी जाती हैं।

ऐसी ही एक सरकारी स्कीम है जिसके जरिए लोगों को आर्थिक मदद देने का प्रावधान है। इस स्कीम में लोगों को 30,000 रुपये की राशि बतौर मुआवजा दी जाती है। इस स्कीम का नाम है राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना।

क्या है Rastriya Parivarik Labh स्कीम

इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों को 30000 रुपये का मुआवजा सरकार के जरिए मुहैया कराया जायेगा।

मृत्यु के दौरान सहायता लेने के लिए इस योजना का लाभ केवल उन गरीब परिवारों को दिया जाएगा जिनके मुखिया की किसी कारणवश मृत्यु हो गयी है और उनके परिवार में कोई कमाने वाला नहीं है।

इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के गरीब परिवारों को Rastriya Parivarik Labh Scheme दिया जाएगा।

राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के उद्देश्य

इस Rastriya Parivarik Labh Scheme का एकमात्र उद्देश्य केवल उन परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है जिन्होंने अपने कमाने वाले सदस्य को खो दिया है।

उनके लिए इस कठिन समय को कम करने के लिए और इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति जो अपने परिवार के खोए हुए सदस्य का स्थान लेने के योग्य है, उसका स्थान भरना चाहता है। फिर राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना उसे नए कार्यों के लिए कोष के रूप में भी मदद मिलेगी।

योजना का लाभ लेने के लिए महत्वपूर्ण निर्देश

इस Rastriya Parivarik Labh Scheme के तहत प्रदान की जाने वाली वित्तीय सहायता केवल बैंक खातों में दी जाती है। इसलिए जरूरी है कि मृत व्यक्ति का खाता जरूर हो।

इस राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना का लाभ परिवार के मुखिया की मृत्यु के 45 दिनों के बीच दिया जाएगा।

योजना के तहत सहकारी बैंकों के बैंक खाते मान्य नहीं हैं। मृत्यु प्रमाण पत्र को सरकारी अस्पताल, ग्राम पंचायत या नगर पंचायत या तहसील से सत्यापित किया जाना चाहिए।

किन लोगों को मिलेगा इस योजना का लाभ

आपको बता दें कि इस Rastriya Parivarik Labh Scheme का लाभ उठाने के लिए आवेदक के लिए कुछ नियम तय किए गए हैं।

राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के लिए सबसे पहले वह व्यक्ति उत्तर प्रदेश का निवासी होना चाहिए। इसके साथ ही यह लाभ केवल उन परिवारों को दिया जाएगा जिनमें मुखिया की मृत्यु 18 से 60 वर्ष के बीच में हो गई है।

इसके साथ ही शहरी क्षेत्र के परिवार की सलाना आय 56,000 रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। वहीं ग्रमीण क्षेत्र के परिवार के लिए यह आय 46,000 रुपये से ज्यादा की नहीं होनी चाहिए।

इसके साथ ही परिवार BPL कार्ड धारक हो और गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहा हो।

Rastriya Parivarik Labh Scheme के लिए आवश्यक दस्तावेज

राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के लिए इम्पोर्टेन्ट डाक्यूमेंट्स नीचे दिए गए हैं:

  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • आय प्रमाण पत्र
  • वोटर आईडी कार्ड
  • परिवारों के मुखिया का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • आवासीय प्रमाण पत्र
  • परिवार के मुखिया की उम्र की पुष्टि के लिए एक सत्यापित दस्तावेज़।
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता

कैसे मिलेगा स्कीम का फायदा

इस Rastriya Parivarik Labh Scheme के अंतर्गत एकमुश्त धनराशि आवेदनकर्ता के बैंक खाते में जमा की जाएगी लिहाजा आवेदक का अपना बैंक अकाउंट होना चाहिए.
UP Rastriya Parivarik Labh Yojana के तहत सरकार जो धनराशि आवेदनकर्ता को देती है वो आवेदन से 45 दिन के अंदर ही प्रदान की जाएगी.

Rastriya Parivarik Labh Scheme के लिए इस तरह करें अप्लाई

इस Rastriya Parivarik Labh Scheme के लिए ऐसे कर सकते है आवेदन:

  • राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना का लाभ उठाने के लिए आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • सबसे पहले आप समाज कल्याण विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट nfbs.upsdc.gov.in/ पर क्लिक करें।
  • इसके बाद आपक सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • New Registration पर क्लिक करें।
  • Registration फॉर्म में पूछे गए सवाल पर जिले का नाम, निवासी, आवेदक के डिटेल्स, बैंक अकाउंट डिटेल्स , मृतक के डिटेल्स आदि भरें।
  • इसके बाद आप इसे Submit कर दें।

फॉर्म भरते वक्त ध्यान रखें

इस राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना फॉर्म को भरते हुए कुछ बातों का ध्यान रखें:

  • फार्म के सभी भाग अंग्रेज़ी में भरे जाएंगे।
  • केवल तहसील स्तर से जारी आय प्रमाण पत्र ही मान्य होगा।
  • सहकारी बैंक का खाता राष्ट्रीय पारिवारिक योजना के अंतर्गत मान्य नहीं है।
  • आवेदक को राष्ट्रीय स्तर के बैंक खाते का विवरण देना होगा।
  • उसके द्वारा सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों की छाया प्रति आवेदन पत्र भरते समय अपलोड करनी अनिवार्य है।
  • आवेदक द्वारा भरी गई जानकारी को सत्य माना जाएगा और यदि किसी भी प्रकार की त्रुटि पाई गई तो आवेदक उसके लिए जिम्मेदार होगा।
  • मृत्यु प्रमाण पत्र केवल मान्यता प्राप्त अस्पताल, नगर पंचायत या तहसील स्तर से जारी किया हुआ ही मान्य होगा।
  • लाभार्थी का फोटो हस्ताक्षर 20 केबी से ज्यादा नहीं होना चाहिए और JPEG फॉरमैट में होना चाहिए।
  • लाभार्थी का पहचान पत्र, बैंक पासबुक, मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र आदि पीडीएफ फॉर्मेट में 20KB से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

Leave a Comment