Sukanya Samriddhi Yojana: SSY खाता कैसे खोलें? न्यूनतम राशि, डॉक्यूमेंट्स और अन्य डिटेल्स जानें

Sukanya Samriddhi Yojana: अगर आप बिटिया की पढ़ाई और शादी को लेकर परेशान हैं तो अब इस चिंता से मुक्त हो सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) में निवेश करके आप अपनी बिटिया का भविष्य सुनहरा बना सकते हैं।

योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के तहत निवेश कर बेटी की भविष्य के लिए एक मोटी रकम जुटा सकते हैं। इसमें आपको न सिर्फ शानदार रिटर्न कमाने (investment return) का मौका मिलेगा, बल्कि आप टैक्स की बचत भी कर सकते है।

बता दें कि सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) बालिकाओं के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई एक छोटी जमा योजना है। सुकन्या समृद्धि योजना खाता (Sukanya Samriddhi Yojana Account) इस योजना के तहत 10 वर्ष या उससे कम उम्र की लड़की के अभिभावक या माता-पिता द्वारा खोला जा सकता है।

एनएफएचएस 2019-2021 रिपोर्ट

भारत की बालिका, बाल लिंगानुपात, लड़कों के संबंध में भले ही सुधरा हो, लेकिन शिक्षा में लिंग अंतर अभी भी बहुत अधिक है। एनएफएचएस 2019-2021 इंगित करता है कि भारत ने पिछले पांच वर्षों में महत्वपूर्ण प्रगति की है।

भारत में प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएं हैं। सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) योजना 2015 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत शुरू की गई थी, जिसका मुख्य उद्देश्य एक लड़की का भविष्य सुरक्षित करना था।

SSY योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) न केवल आपको अपनी बेटी की शिक्षा और शादी के खर्च के लिए हर साल छोटी राशि जमा करने की अनुमति देती है, बल्कि कर लाभ के साथ अच्छी ब्याज दर भी देती है।

योजना की मुख्य विशेषताएं

यहाँ SSY (Sukanya Samriddhi Yojana) की कुछ मुख्य विषेशताएं बताई गयी है:

  • एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम जमा राशि 250 रुपये और अधिकतम जमा 1.5 लाख रुपये है।
  • बालिका का खाता तब तक खोला जा सकता है जब तक कि वह 10 वर्ष की आयु तक नहीं पहुंच जाती।
  • बालिका के नाम पर केवल एक ही खाता खोला जा सकता है।
  • अधिकृत बैंकों और डाकघरों में खाता खोलने की सुविधा उपलब्ध है।
  • खाताधारक की उच्च शिक्षा के लिए निकासी की अनुमति।
  • खाते को भारत में कहीं भी एक डाकघर/बैंक से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित किया जा सकता है।
  • खोले जाने के बाद 21 वर्ष की अवधि बीत जाने के बाद यह मैच्योर हो जाएगा।
  • जमा आईटी अधिनियम की धारा 80C के तहत कटौती योग्य है।
  • आईटी एक्ट की धारा 10 खाते में अर्जित ब्याज को आयकर से मुक्त रखती है।
  • खाता खोलने के दिन से अधिकतम 15 वर्षों के लिए जमा किया जा सकता है।
  • यदि खाताधारक की मृत्यु हो जाती है या असाधारण मानवीय कारणों से खाता जल्दी बंद किया जा सकता है।

SSY (Sukanya Samriddhi Yojana) की पात्रता, कर लाभ और नियम क्या हैं

आपको बता दें कि इस Sukanya Samriddhi Yojana की पात्रता क्या होगी और इस से जुड़े नियम क्या हैं:

  • 1 अप्रैल 2020 को या उसके बाद खाते में जमा राशि और खाते में जमा शेष राशि पर 7.6 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से ब्याज मिलेगा।
  • खाता माता-पिता या कानूनी अभिभावक (भारत के नागरिक) द्वारा बालिका के जन्म के बाद किसी भी समय 10 वर्ष की आयु तक खोला जा सकता है।
  • इस योजना के तहत प्रत्येक खाताधारक का एक ही खाता होगा।
  • जमा करने की अधिकतम अवधि खाता खोलने की तारीख से 15 वर्ष है।
  • इस योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के तहत एक परिवार में अधिकतम दो बालिकाओं के लिए खाता खोला जा सकता है।
  • बालिका के कानूनी अभिभावक या माता-पिता 18 वर्ष की आयु तक राशि जमा कर सकते हैं।

मेच्योरिटी पर मिलेंगे 65 लाख रुपये से ज्यादा

अगर आप इस स्कीम (Sukanya Samriddhi Yojana) में हर महीने 3000 रुपये यानी रोजाना 100 रुपये का निवेश करते हैं यानी सालाना 36000 रुपये पर आपको 14 साल बाद 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से 9,11,574 रुपये मिलेंगे।

21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 15,22,221 रुपये हो जाएगी। अगर आप रोजाना 416 रुपये बचाते हैं तो अपनी बेटी के लिए 65 लाख रुपये फंड खड़ा कर सकते हैं।

कहां खुलवाएं खाता?

सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के तहत खाता किसी पोस्ट ऑफिस (Post office) या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा (Bank branch) में खोला जा सकता है। इस योजना के तहत अकाउंट बच्ची के जन्म लेने के बाद 10 साल से पहले की उम्र में कम से कम 250 रुपये जमा के साथ खोला जा सकता है।

चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा कराये जा सकते हैं। खाता खुलवाने के लिए आपको फॉर्म के साथ पोस्ट ऑफिस या बैंक में अपनी बेटी का बर्थ सर्टिफिकेट जमा कराना होगा।  इसके अलावा बच्ची और माता-पिता का पहचान पत्र, जैसे-पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट देना होगा।

मिलेगा 15 लाख का फायदा

खाता खुलने की डेट से 21 साल बाद या बेटी के 18 साल होने पर शादी के समय (शादी की तारीख से 1 महीना पहले या तीन महीने बाद) सुकन्‍या समृद्धि खाता (Sukanya Samriddhi Yojana) मैच्‍योर होता है। सुकन्या समृद्धि योजना पर 7.6 फीसदी ब्याज है। बता दें अगर आप इस स्कीम में हर महीने 3000 रुपये का निवेश करते हैं यानी सालान 36000 रुपये लगाने पर 14 साल बाद 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से आपको 9,11,574 रुपये मिलेंगे। 21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 15,22,221 रुपये होगी। 

आवश्यक डॉक्यूमेंट्स Sukanya Samriddhi Yojana के लिए

जिन डाक्यूमेंट्स की आपको इस योजना के तहत जरुरत होगी वो नीचे बताये गए हैं:

  • SSY खाता खोलने का फॉर्म।
  • लाभार्थी का जन्म प्रमाण पत्र।
  • लाभार्थी के अभिभावक या माता-पिता का पता प्रमाण और आईडी प्रमाण।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता कैसे खोलें

  • माता-पिता या अभिभावक SSY खाते को किसी भी डाकघरों और अधिकृत बैंकों में खोल सकते हैं।
  • SSY खाता खोलने का फॉर्म और माता-पिता या अभिभावकों के पते और आईडी प्रूफ को प्रारंभिक राशि से भरकर निकटतम अधिकृत बैंक या डाकघर में जमा करना।
  • SSY (Sukanya Samriddhi Yojana) खाता खोलने के लिए आपको 250 रुपये की शुरुआती राशि जमा भी करनी होगी।
  • अभी तक, ऑनलाइन खाता खोलने का कोई विकल्प नहीं है।

Sukanya Samriddhi Yojana खाता कैसे संचालित होता है

अधिसूचित योजना नियमों के अनुसार, खाते का संचालन अभिभावक द्वारा तब तक किया जाता है जब तक कि बालिका 18 वर्ष की नहीं हो जाती। 18 वर्ष की आयु के बाद आवश्यक केवाईसी दस्तावेज जमा कर बालिका द्वारा खाते का संचालन किया जाएगा।

टैक्स कटौती और निकासी

एसएसवाई योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) आईटी अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी के तहत आती है। नवीनतम वित्त विधेयक में, योजना को ट्रिपल छूट (ईईई) लाभ बढ़ाया गया है यानी निवेश की गई राशि, ब्याज के रूप में अर्जित राशि और राशि पर कोई कर नहीं होगा।

Leave a Comment