UP Matra Bhumi Yojana: आम जनता को क्या होगा इससे फायदा, CM योगी का तोहफा

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana Apply Online | उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | UP Matra Bhumi Yojana | उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना कार्यान्वयन प्रक्रिया

UP Matra Bhumi Yojana: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से बाहर जाकर बसे राज्य के लोग अगर अपने गांव के विकास के लिए कुछ करना चाहते हैं तो सरकार ने उनके लिए ‘उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना’ (UP Matra Bhumi Yojana) की शुरुआत की है। इसे बुधवार को कैबिनेट की बैठक (Yogi Cabinet) में मंजूरी दे दी गई है। जल्द ही ये योजना साकार रूप लेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आमजन को विकासकार्यों में प्रत्यक्ष भागीदार बनाने के लिए ‘उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना’ शुरू करने की घोषणा की है। इस अनूठी योजना के तहत गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में हर व्यक्ति को सीधी हिस्सेदारी का मौका मिलेगा। परियोजना की कुल लागत का 50 फीसदी खर्च सरकार वहन करेगी, जबकि शेष 50 फीसदी इच्छुक व्यक्ति की ओर से सहयोग होगा।

UP Matra Bhumi Yojana
UP Matra Bhumi Yojana

यह भी जानें

बदले में परियोजना का नामकरण सहयोगी व्यक्ति की इच्छानुसार उनके परिजनों के नाम पर किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री ने ग्राम्य विकास और पंचायती राज विभाग को इस अभिनव योजना (UP Matra Bhumi Yojana) की औपचारिक शुरुआत के लिए विस्तृत कार्ययोजना प्रस्तुत करने को कहा है। मुख्यमंत्री बुधवार को सरकारी आवास पांच कालीदास मार्ग पर आयोजित कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से पीएम ग्रामीण सड़क योजना और जिला पंचायतों में हॉटमिक्स व फुल डेप्थ रिक्लेमेशन (एफडीआर) पद्धति से बनी सडकों का लोकार्पण व शिलान्यास कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि गांवों के समग्र विकास के लिए केंद्र और राज्य सरकार लगातार काम कर रही है। उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना (UP Matra Bhumi Yojana) एक अच्छा प्रयास हो सकती है। इसके माध्यम से गांवों में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनबाड़ी, पुस्तकालय, स्टेडियम, व्यायामशाला, ओपन जिम, पशु नस्ल सुधार केंद्र, फायर सर्विस स्टेशन आदि की स्थापना होगी। स्मार्ट विलेज के लिए सीसीटीवी लगवाने, अंत्येष्टि स्थल का विकास, सोलर लाइट, सीवरेज के लिए एसटीपी प्लांट लगवाने में आमजन की भागीदारी होगी। इसके माध्यम से परियोजना की कुल लागत का आधा खर्च उठाकर संबंधित व्यक्ति उसका पूरा श्रेय ले सकेगा।

UP Matra Bhumi Yojana 2022

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा Mathrubhumi Yojana का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत परियोजना में होने वाली कुल लागत का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं शेष 50% इच्छुक नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा, जिसके बदले में परियोजना का नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा अनुसार रखा जाएगा।

इस योजना के माध्यम से संबंधित व्यक्ति योजना पर होने वाला आधा खर्च वाहन करके परियोजना का पूरा श्रेय प्राप्त कर सकता है। उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना (UP Matra Bhumi Yojana) की औपचारिक शुरुआत के लिए ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग को कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिए गए हैं। यह योजना को आरंभ करने की घोषणा 15 सितंबर 2021 को की गई है।

हिंदू बंगाली परिवारों का होगा पुनर्वास

यूपी सरकार ने 1970 में पूर्वी पाकिस्तान से विस्थापित 63 हिंदू बंगाली परिवारों के लिए पुनर्वासन (UP Matra Bhumi Yojana) योजना को स्वीकृति प्रदान कर दी है। इसके तहत कानपुर देहात जनपद की रसूलाबाद तहसील के भैंसाया गांव में पुनर्वास विभाग के नाम उपलब्ध 121.41 हेक्टर भूमि पर प्रस्तावित योजना पर मुहर लगाई है। इसके अलावा, कैबिनेट ने प्रदेश के अन्त्योदय और पात्र गृहस्थी कार्डधारकों के लिए आयोडाइज्ड नमक, दाल/साबुत चना, खाद्य तेल (यथा-सरसों तेल/रिफाइण्ड तेल) एवं खाद्यान्न के निःशुल्क वितरण संबंधी प्रस्ताव को अनुमोदित कर दिया है।

वकीलों को कल्याण निधि से 5 लाख मिलेंगे

कैबिनेट ने संकल्प पत्र 2017 में की गई घोषणा (UP Matra Bhumi Yojana) को भी पूरा किया। उत्तर प्रदेश अधिवक्ता कल्याण निधि न्यासी समिति में पंजीकृत करीब 5,848 अधिवक्ताओं को पंजीकरण से 30 वर्ष पूर्ण करने पर 1.50 लाख रुपए से पांच लाख रुपए एकमुश्त दिए जाने के लिए फैसला लिया। सरकार ने उत्तर प्रदेश अधिवक्ता कल्याण निधि अधिनियम-1974 की धारा-13 में संशोधन के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है।

सीएम ने दी गांवों को यह सौगात

इस मातृभूमि योजना (UP Matra Bhumi Yojana) के तहत ये कार्य भी होंगे:

  • पीएम ग्राम सड़क योजन में 4,130.27 करोड़ की लागत से 6,208.45 किमी लंबे 886 ग्रामीण मार्गों के निर्माण कार्य का शुभारंभ।
  • 155 करोड़ की लागत से 1,930 किमी लंबे 692 ग्रामीण मार्गों के नवीनीकरण कार्य का लोकार्पण।
  • जिला पंचायतों के तहत हॉटमिक्स पद्धति से निर्मित होने वाले 195.07 करोड़ की लागत से 537.82 किमी लंबे 509 ग्रामीण मार्गों का लोकार्पण।
  • जिला पंचायतों के तहत हॉटमिक्स पद्धति से निर्मित होने वाले 33.75 करोड़ की लागत से 48.62 किमी लंबे 14 ग्रामीण मार्गों का शिलान्यास।

UP Matra Bhumi Yojana के तहत शिलालेख भी लगाया जाएगा

इस योजना के तहत उस व्यक्ति या व्यक्तियों के समूह के परिवार के किसी बुजुर्ग, या अन्य किसी सदस्य के नाम का शिलालेख भी लगाया जाएगा। इसमें उपरोक्त विकास कार्य का उल्लेख भी किया जाएगा। ये काम उसके लिए गांव में यादगार बन सकेगा। गांव वालों को भी सुख-सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा।

उत्तरUP Matra Bhumi Yojana का उद्देश्य

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2022 का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करना है। इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी। इन परियोजनाओं का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं 50% खर्च नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा। इसके बदले में परियोजना का (UP Matra Bhumi Yojana) नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा के अनुसार रखा जाएगा। इस योजना के माध्यम से नागरिक विकास कार्यों में वित्त सहायता प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित होंगे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना गांवों का विकास करने में भी कारगर साबित होगी।

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2022 के लाभ तथा विशेषताएं

यहाँ हम आपको UP Matra Bhumi Yojana के लाभ और विशेषताएं बताएँगे, जो इस प्रकार हैं:

  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का शुभारंभ किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी।
  • परियोजना पर होने वाला कुल लागत का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं शेष 50% खर्च नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा।
  • जिसके बदले में परियोजना का नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा अनुसार रखा जाएगा।
  • जिससे कि संबंधित व्यक्ति योजना पर होने वाला आधा खर्च वाहन करके परियोजना का पूरा श्रेय प्राप्त कर सकता है।
  • इस योजना की औपचारिक शुरुआत के लिए ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग को कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश भी सरकार द्वारा प्रदान कर दिए गए हैं।
  • इस योजना (UP Matra Bhumi Yojana) को आरंभ करने की घोषणा 15 सितंबर 2021 को की गई है।
  • मुख्यमंत्री जी ने सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग पर एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया था।
  • इस कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई कि सरकार गांवों में सामाजिक विकास के लिए लगातार कार्यरत है।
  • इस योजना के माध्यम से गांवों में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनवाड़ी, पुस्तकालय, स्टेडियम, व्यामशाला, ओपन जिम, पशु नस्ल सुधार केंद्र, फायर सर्विस स्टेशन आदि की स्थापना की जा सकेगी।
  • इसके अलावा सीसीटीवी लगवाना, सोलर लाइट, सीवरेज के लिए एसटीपी प्लांट लगवाने में भी नागरिकों की भागीदारी होगी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की पात्रता एवं महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आवेदक (UP Matra Bhumi Yojana) उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आधार कार्ड।
  • निवास प्रमाण पत्र।
  • आय का प्रमाण।
  • आयु का प्रमाण।
  • राशन कार्ड।
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • मोबाइल नंबर।
  • ईमेल आईडी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अभी केवल उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना (UP Matra Bhumi Yojana) को आरंभ करने की घोषणा की गई है। जल्द इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी। जैसे ही सरकार इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित कोई भी जानकारी प्रदान करती है या फिर सरकार द्वारा कोई भी आधिकारिक वेबसाइट लांच की जाती है तो हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। तो दोस्तों यदि आप Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2022 के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख से जुड़े रहे।

Leave a Comment