ई-नॉमिनेशन नहीं किया है तो झेलने पड़ सकते हैं कई झंझट, तुरंत ऑनलाइन निपटाएं। ई-नॉमिनेशन के बिना पासबुक भी नहीं देख सकते।

सरकार ने अब पीएफ के लिए भी ई-नॉमिनेशन अनिवार्य कर दिया है। पीएफ अकाउंट होल्‍डर अभी तक ई-नॉमिनेशन के बिना भी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की वेबसाइट पर जाकर आसानी से पीएफ बैलेंस और पासबुक देख सकते थे।

किसी मेंबर के निधन की स्थिति में प्रोविडेंट फंड, पेंशन, बीमा लाभ मामले में ऑनलाइन दावा और निपटारा तभी संभव है जब ई-नॉमिनेशन किया गया हो।

पीएफ अकाउंट होल्‍डर सिर्फ अपने परिवार के सदस्यों को नॉमिनी बना सकता है। परिवार न हो तो दूसरे व्यक्ति को भी नॉमिनेट करने की छूट है, पर परिवार का पता चलने पर गैर-परिजन का नॉमिनेशन रद्द हो जाता है

अगर कर्मचारी ने नॉमिनी का उल्लेख नहीं किया जाता है तो कर्मचारी की मृत्‍यु के बाद उसके उत्तराधिकारी को पीएफ जारी करने के लिए उत्तराधिकार प्रमाण-पत्र पाने के लिए सिविल कोर्ट जाना पड़ता है।

पीएफ अकाउंट होल्‍डर एक से ज्‍यादा नॉमिनी भी बना सकते हैं। किसे कितनी राशि देनी है, इसके लिए नॉमिनेशन डिटेल्‍स देनी होती है।

ईपीएफओ की बेवसाइट epfindia.gov.in पर जाकर ‘सर्विसेज’ सेक्शन में ‘फॉर इम्प्लॉईज’ पर क्लिक करें। अब ‘मेंबर यूएएन/ऑनलाइन सर्विस (ओसीएस/ओटीसीपी) पर जाएं।

निर्देशों का पालन करते हुए ‘प्रोवाइड डिटेल्स’ टैब आएगा। ‘एड फैमिली डिटेल्स’ पर क्लिक करें। इससे नॉमिनेशन पूरा करें।